Join with usResearch JournalPublish your ResearchResearch Database
Website Visits: Web Counters
Vol. 10, Issue 1

Vol.10, Issue 1

SHODH SANCHAYAN

Vol.10, Issue.1, 15 Jan, 2019

ISSN  2249 – 9180 (Online)

Bilingual (Hindi & English)
Half Yearly

Print & Online

Dedicated to interdisciplinary Research of Humanities & Social Science

An Open Access INTERNATIONALLY INDEXED REFEREED RESEARCH JOURNAL and a complete Periodical dedicated to Humanities & Social Science Research.

मानविकी एवं समाज विज्ञान के मौलिक एवं अंतरानुशासनात्मक शोध पर  केन्द्रित (हिंदी और अंग्रेजी)

If you don't have Walkman Chanakya on your computer, you will see junk characters, wherever article Text would be in Hindi. For downloading Hindi Fonts, you may please click on

http://www.shodh.net/media/hindifont.zip

Save the fonts files CHANAKBI.PFB, CHANAKBI.PFM, CHANAKBX.PFB, CHANAKBX.PFM, CHANAKIX.PFB, CHANAKIX.PFM, CHANAKYA.PFB, CHANAKYA.PFM, CHANAKYB.PFB, CHANAKYB.PFM, CHANAKYI.PFB andCHANAKYI.PFM into c:\windows\fonts directory.

Once the font is added to your system, you can see the text in Hindi using any browser like Netscape (ver 3 and above), Internet explorer etc.

(हिन्दी शोध आलेखों को पढ़ने के लिए इस वेब ठिकाने के Quick Links मेनू से हिन्दी फॉण्ट डाउनलोड करें और उसे अनजिप (unzip) कर अपने कंप्यूटर के कण्ट्रोल पैनल के फॉण्ट फोल्डर में चस्पा (Paste) करें.)

Index/अनुक्रम

 

An attempt is made to analyse the performance and impact of Gramin Bank of Aryavart in Lucknow district through various parameters collected from bank officials such as number of employees, number of accounts, advances and deposits mobilization and from customers such as sources of information, staff co-operation, decadal difference and suggestions provided by account holders/customers. For the analysis of the qualitative research excel functions of sum, count and proportion has been used. As the collected raw data was in sentence and paragraph form the data was edited, coded, themed and analysed. The study has analysed that even though the woring of GBA has considerably declined, the progress, performance and impact of GBA has significantly improved over time with scope of improvement. The study has reported that there is significant improvement in working of GBA in urban and rural areas and it is also noticable that facilities provide by GBA has increased over a decade.

An attempt is made to analyse the performance and impact of Gramin Bank of Aryavart in Lucknow district through various parameters collected from bank officials such as number of employees, number of accounts, advances and deposits mobilization and from customers such as sources of information, staff co-operation, decadal difference and suggestions provided by account holders/customers. For the analysis of the qualitative research excel functions of sum, count and proportion has been used. As the collected raw data was in sentence and paragraph form the data was edited, coded, themed and analysed. The study has analysed that even though the woring of GBA has considerably declined, the progress, performance and impact of GBA has significantly improved over time with scope of improvement. The study has reported that there is significant improvement in working of GBA in urban and rural areas and it is also noticable that facilities provide by GBA has increased over a decade.

भारतीय कला का पावन तीर्थस्थल अजन्ता महाराष्ट्र राज्य के औरंगाबाद जिले में स्थित है। अजन्ता में 29 गुफाएं है जो चैत्य एवं विहार गुफाएं कहलाती है। इन समस्त गुफाओं में बौद्ध धर्म से संबंधित चित्रांकन किया गया है। अजन्ता के कलाकारों ने जीवन के प्रत्येक पहलुओं का बारीकी से अध्ययन कर गुफाओं की भित्तियों पर चित्रांकन कर जीवन्त किया है। यहां नगरो के विलासमय जीवन, ग्रामों का शान्त जीवन, मछुआरें, शिकारी, भिखारी, युद्धरत सैनिक, राजभवनों की विलासिता, महोत्सव, नृत्योत्सव, जुलुस आदि विविध विषय चित्रांकित है। प्रकृति की असीम सम्पदा को यहां पशु-पक्षी एवं मानवाकृतियों सहित अलंकरण के रूप में अथवा विषय संयोजन के अनुसार पृष्ठभूमि में दर्शाया गया है। अजन्ता के भित्ति चित्रणों में नारी को अति उच्च स्थान दिया गया है। यहां नारी चित्रण मानवीय न होकर सैद्धान्तिक रूप में हुआ है जो कि सार्वभौमिक सौन्दर्य का प्रतीक है। अजन्ता में चित्रांकित नारी असीम सौन्दर्य की स्वामिनी है परन्तु उसका सौन्दर्य आकर्षण का प्रतीक न होकर आध्यात्मिकता की ओर ले जाने वाला है। अजन्ता के चित्राकारों ने नारी की अल्हड़ता, यौवन, मातृत्व का बोध, समर्पिता प्रेयसी, निष्ठावन पत्नी, विरहणी, सयांगिनी, त्यागमयी, बुद्धमती, क्षमा प्रार्थिनी सेविका, परिचारिका, चिकित्सक, वृद्धा आदि लगभग सभी रूपों को अपने चित्रांकनों के माध्यम से परिचित कराया है।

Seeking God has always been the final frontier of all human activities in Indian civilization. All religions have a complex web of their own concepts of Gods, Goddesses, Karma and destiny. The most remarkable feature of all Indian religions, particularly of Buddhism is its steadfast refusal to accept any blind adherence to its dogmatic beliefs and practices. Fundamentalism or discrimination between men on the basis of religion has never held any significance for Buddhist followers. This was the reason why, when Buddhism grew its fully developed educational system, it was largely secular in nature. World famous Buddhist universities like Nalanda, Vikramshila and others earned their popularity not only because of their high standards of teaching learning process but also due to the wide range of subjects offered to the students. All this and more made Buddhist education in ancient India a system which was secular in spirit, resting in the ideas of equality, fraternity and peace.

दिनकर सांस्कृतिक ऊर्जस्विता और आधुनिक युगबोध के कवि हैं। उनके साहित्य में भारतीय संस्कृति और परंपरा के प्रति एक विशेष आकर्षण दिखायी पड़ता है। दिनकर के युगबोध का ताना-बाना परंपरा को ख़ारिज करके नहीं, बल्कि उसमें संशोधन और उसका परिष्कार करके तैयार हुआ है। उनका काव्य-लेखन छायावादी दौर में शुरू हुआ था, किंतु उनकी कविता में जनबद्धता कभी भी अनुपस्थित नहीं हुईं। उन्हें आधुनिकता की सही अर्थों में पहचान थी। दिनकर भारतीय जनमानस में व्याप्त आद्यबिम्बों, पौराणिक आख्यानों एवं मिथकीय प्रतीकों को नितांत आधुनिक संदर्भों में व्यक्त करने वाले कवि हैं। उनका मानना था कि अतीत का अध्यात्म और वर्तमान का विज्ञान दोनों ही भारत की प्रगति के दो चक्र हैं।

Teaching like other profession is not immune to quick fixes or fads. An important and ongoing challenge for Education is to find new and appropriate ways to deal effectively with the ever changing nature of culture and society. A part of this challenge is to consider the needs, interest, beliefs, traditions and values of individuals and of group of people. As an integral component of culture and society, education must always strive for relevancy and meaningfulness to the wider community. Teachers play an important part in this search for meaning. It is our belief that teacher should be productive and transformative in their practice. They need to have developed a critical pedagogy. Such pedagogy stems from a social and cultural consciousness that encourages self- knowledge, social knowledge, political awareness and productivity. In building a reflective internship program the teacher education seems a potential site for the nurturing of individuals who are conscious and active participants in their society and in ongoing production of their culture. Reflective teaching from its inception has been no exception. Reflective teaching has now become an accepted way of thinking and practicing teacher education. The researcher wants to throw the light upon teaching internship as reflective practice of competent teachers through this research paper.

वैश्विक स्तर पर नारीवादी आन्दोलनो ने भारतीय महिलाओं में जागृति पैदा की है। विचारधारात्मक स्तर पर जहाँ नारीवादी आन्दोलन उत्कट, उदारवादी, एवं सामजवादी श्रेणी में विभक्त है, वहीं नारीवाद का भारतीय परिप्रेक्ष्य भी दृष्टिगोचर होता है जिसमें हम देखते हैं कि नारी प्राकृतिक विषमता को स्वीकार कर पुरुष से कृत्रिम विषमता के अन्त की मांग करती है। वह न तो उग्रवादियों की तरह परम्परा और सांस्कृतिक विरासत को समाप्त करना चाहती है और न ही समाजवादियों की तरह श्रेणियों में वर्गीकृत समाज स्थापित करना चाहती है बल्कि नारी स्वयं के बुद्धि, विवेक, कुशलता एवं क्षमता का प्रदर्शन कर समाज में समतामूलक विकास में सहभागी बनना चाहती है। यद्यपि भारतीय संविधान में प्रारम्भ से ही राजनीतिक आर्थिक एवं सामाजिक स्तर पर नारियों से भेदरहित उपबन्ध किये गये हैं किन्तु उन्हें यथार्थ के धरातल पर स्थापित कर वास्तव में 50 प्रतिशत आबादी को न्याय दिलाने का लक्ष्य अभी अधूरा है।

मानव अस्तित्व के लिए हवा और पानी प्राथमिक आवश्यकताएं हैं। इनके अभाव में जीवन-यापन असम्भव है। बढ़ती जनसंख्या द्वारा प्राकृतिक जल संसाधनों पर अत्यधिक बोझ है एवं औद्योगीकरण व मानव के प्रकृति विरुद्ध क्रियाकलापों ने इसे और भी गम्भीर बना दिया है। संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा 22 मार्च को विश्व जल दिवस घोषित करते हुए शुद्ध पानी की किल्लत की तुलना ‘टाईम बम’ से करते हुए एक बडे़ खतरे के प्रति आगाह किया है। हाइड्रोलॉजी पॉलिसी व अन्य नीतियों के माध्यम से समय रहते इस समस्या का समाधान करना होगा। इस समस्या के समाधान हेतु व्यापक प्रयास न किये गये तो भविष्य में पेयजल समाप्त हो जाएगा तथा मानव जीवन पर गम्भीर संकट उत्पन्न हो जाएगा।

The open, distance and flexible learning provides ample space for information and communication technology enabled free and flexible educational provisions such as SWAYAM, SWAYAMPRABHA, MOOCs etc. and commits to ensure enhanced access and equity in education. Research indicates that open and distance learning has emerged as an important tool for empowering human resources through higher education. However, many ODL institutions provide the enhanced opportunity of interactivity based on synchronous and asynchronous learning resources. Too often, the distance learners’ profile containing their choices, preferences and aspirations are not taken into account by the ODL institutions. However, the write – up deals with the ICT and its many ramifications to be integrated in ODL in a bid to enhance the accessibility, raise the quality and lower the cost. Looking to the outreach capabilities of tech – driven ODL, the possible benefits, challenges inherent and policies required for transforming it into more open, flexible and virtual learning environment are also accentuated.

महाकवि शचीन्द्र भटनागर स्वातन्‍त्र्योत्तर भारत के महान साहित्यकारों में से एक हैं। बहुआयामी काव्य प्रतिभा से धनी साहित्यकार शचीन्द्र भटनागर ने एक-से-एक महत्वपूर्ण कृति हिन्दी को दी हैं। इस दृष्टि से वे मूलतः गीतकार हैं। उनकी अनेकानेक गीत कृतियों में से ‘क्रान्ति के स्वर’ एक उल्लेखनीय गीत कृति है जिसमें कवि के क्रान्तिकारी विचारों की सुन्दर अभिव्यक्ति हुई है। गीत-सृजन की एक महत्वपूर्ण विशेषता सामाजिक चेतना की अनुभूति और अभिव्यक्ति है। सामाजिक अनुभूति और गीत की भाव-प्रवणता ने इन की रचनाओं को विशेष मार्मिकता और सजीवता प्रदान की। सामाजिकता की अभिव्यक्ति इन के काव्य में अनेक प्रकार से हुई है, जिसका आकर्षण पक्ष है जीवन के प्रति उनकी गहन आस्था। स्वातन्‍त्र्योत्तर हिंदी-गीतकारों में शचीन्द्र भटनागर जी ऐसे सशक्त हस्ताक्षर हैं, जिनकी गीत-सृष्टि में प्रकृति और प्रणय व्यक्ति और समष्टि को पूर्ण संतुलन के साथ अभिव्यक्ति मिली है। इनके गीतों में जहाँ स्वस्थ और ताज़ा श्रृंगारिक अनुभूतियाँ व्यक्त हुई हैं, वहीं प्रकृति के अनेक रंग-बिरंगे चित्र भी उभरे हैं। जहाँ उनके गीतों ने देश के स्वर के साथ स्वर मिलाया है, वहीं सामाजिक संत्रास और छटपटाहट भी उनमें मुखरित हुई है। इनके गीत मानवीय मूल्यों के पुंज हैं, उनके भारतीय सामाजिक जीवन की प्रबल अभिव्यक्ति हुई है।

कौटिल्य और मैकियावली राजनीतिक चिंतन के इतिहास के शिखर स्तम्भ हैं। दोनों के विचारों का तुलनात्मक अध्ययन करने पर यह निष्कर्ष प्राप्त होता है कि दोनो के चिंतन का विकास अपने राज्य की प्रतिकूल परिस्थितियों में हुआ था। कौटिल्य ने जहाँ नन्दराज की उत्पीड़नकारी नीतियों के प्रतिकार के भारत राष्ट्र को एकीकृत एवं सगठित करने का प्रयास किया वहीं मैकियावली ने विखण्डित इटली को संगठित कर अखण्ड राष्ट्र के निर्माण की पृष्ठभूमि तैयार की। दोनों की वैचारिक सभ्यता की दृष्टि से दोनों ने राजा के व्यक्तित्व, चरित्र, राज्य के स्वरूप (सावयवी), भूमिका एवं परराष्ट्र नीति पर लगभग एक जैसा विचार प्रस्तुत किया। कौटिल्य और मैकियावली न केवल विचारक थे बल्कि वे राजकार्य में सहयोगी भी थे। कौटिल्य चन्द्रगुप्त के प्रधानमंत्री तो मैकियावली इटली के प्रधान सचिव थे। दोनों के तुलनात्मक अध्ययन में कुछ विषमताएं भी हैं। कौटिल्य ने जहाँ राजा को नैतिकता की मूर्ति माना वहीं मैकियावली ने राजा को नैतिकता के बन्धन से मुक्त कर दिया। उपरोक्त बिन्दुओं को ध्यान में रखकर हम उल्लेखित कर सकते हैं कि जहाँ कौटिल्य का अर्थशास्त्र राजनीतिशास्त्र पर लिखा गया पूर्ण प्रबन्ध है वहीं मैकियावली का द प्रिंस शासन कला का व्यापक विस्तार ग्रंथ है।

श्रीमद्भगवद्गीता में शिक्षा मानवता के उत्थान का प्रदेय माना गया है। इसमें न केवल व्यक्ति का ज्ञानवर्धन होता है वरन् यह व्यक्ति के नैतिक, आध्यात्मिक एवं भौतिक मूल्यों में संवर्धन भी करता है। शिक्षा व्यक्ति में मनुष्यता के विकास के साथ ही आत्मानुशासन का भी विकास करती है। गीता मानसिक विकारों से बचने का सदैव परामर्श देती है इसीलिए काम, क्रोध्, लोभ, मोह को त्याग कर व्यक्ति को संयमित एवं सार्थक जीवन जीने की प्रेरणा गीता में प्रदान की गयी है। शिक्षा के प्रति मानवीय दृष्टिकोण का विकास होने पर गीता में मनुष्य को पशु से श्रेष्ठ स्थान प्रदान किया गया है। प्रस्तुत शोध् आलेख सामाजिक आकांक्षाओं की पूर्ति की दृष्टि से श्रीमद्भगवद्गीता प्रणीत शिक्षा की संभावनाओं को अन्वेषित करने का प्रयत्न है।

भारतीय संस्कृति व परम्परा में जनजातियों का एक विशेष स्थान रहा है। भारत में विगत कुछ समय में जनजातीय महिलाओं की स्थिति में कापफी सुधर हुआ है। छत्तीसगढ़ राज्य का बस्तर संभाग जो कि जनजातीय बाहुल्य क्षेत्रा है यहां जनजातीय महिलाओं के सशक्तिकरण, विकास, शिक्षा एवं जीवन स्तर में सुधार हेतु निरन्तर प्रयास किया जा रहा है। बस्तर संभाग के अन्तर्गत आने वाले सात जिलो में दंतेवाड़ा जिले में सर्वाधिक जनजातीय लिंगानुपात 1067 है, जो छत्तीसगढ़ राज्य में भी सबसे अधिक है। यहां जनजातीय समाज में महिलाओं को पुरूषों से कम नहीं आंका जाता है। इस क्षेत्र में स्थानीय समस्या जैसे- नक्सलवाद, सुदूर ग्रामीण-पहाड़ी क्षेत्र, पिछड़ापन आदि होने के बावजूद जनजातीय महिलाएं अपने अधिकारों के प्रति सजग हुई हैं एवं इनके जीवन स्तर में निरन्तर सुधार हो रहा है।

डॉ. नरेन्द्र कोहली ने अपने उपन्यासों में नारी चरित्रों को सशक्त एवं प्रभावशाली ढंग से चित्रित किया गया है। डॉ. कोहली ने जंहा एक तरपफ सत्यवती जैसी नारी का चित्रण किया जिसने नारी को कामना एवं वासना से युक्त माना और संसार के समस्त भोगों की स्वामिनी होना चाहती है, वहीं द्रौपदी के रूप में एक दृढ़ संकल्पित नारी का भी चित्रण किया है। कुन्ती ने युधिष्ठिर को नारी के बारे में बताया कि नारी पुरुष को दुर्बल व पराजित होते हुए नहीं देखना चाहती बल्कि वह सामर्थ्यवान एवं विजित पुरुष को ही स्वयं के लिए कमनीय मानती है। नारी का एक ऐसा रूप भी इनके उपन्यासों में दृष्टिगोचर होता है कि नारी, पुरुष को धन और वैभव से श्रेष्ठ मानती है। सामर्थ्यवान पुरुष को प्राप्त करने के लिए वह धन, वैभव, पद एवं प्रतिष्ठा का भी त्याग कर सकती है। नारी का एक स्वरूप यह भी चित्रित होता है कि नारी सौन्दर्य की अप्रतिम देवी होते हुए भी अपमान होने पर रौद्र रूप धारण कर विनाशकारिणी बन जाती है।

Display Num 
Powered by Phoca Download
Opinion Poll
1. उच्च शिक्षा में सुधार हेतु ए.पी.आई.और अन्य संबंधित विषयों के परिवर्तन में कया जल्दबाजी उचित है?
 
2. भारत में समाज विज्ञान एवम मानविकी की शोध पत्रिकांए शोध के स्तर को बढाने में निम्न सामर्थ्य रखतीं हैं-
 
3. क्या आप भारतीय विश्वविद्यालयो में हो रहे शोध से संतुष्ट है?
 
4. भारतीय विश्वविद्यालयों में मानविकी एवं सामाजिक विज्ञानं के अधिकांश शोध हैं –