Doctoral Colloquium
Join with usResearch JournalPublish your ResearchResearch Database
Free Website Counter
Doctoral Colloquium PDF Print E-mail

Under Construction

 
Seminars/ Workshops

++++

अंतर्राष्ट्रीय ई-संगोष्ठी

"वर्तमान चुनौतियों के संदर्भ में समाज की संवेदना और साहित्य"

दिनांक 27 -28 जुलाई, 2020, सोमवार – मंगलवार

संयुक्त तत्त्वावधान

हिन्दी विभाग,

श्यामा प्रसाद मुखर्जी रा. स्नातकोत्तर महाविद्यालय, प्रयागराज

(इलाहाबाद विश्वविद्यालय, प्रयागराज का घटक महाविद्यालय)

एवं

शोध संचयन,

सामाजिक विज्ञान एवं मानविकी का शोध पोर्टल

पंजीकरण नि:शुल्क है। सत्रों में उपस्थिति और प्रतिपुष्टि प्रपत्र भरना अनिवार्य है। शोध-पत्र (अधिकतम 5000 शब्द), शोध-शारांश (100 शब्द) के साथ प्रेषित करें। यह पियर रिव्यू के बाद चयनित अंतर्राष्ट्रीय इंडेक्सड रेफ्रीड जर्नल में प्रकाशित किया जाएगा। शोध प्रपत्र वाचन करने हेतु पंजीकरण प्रपत्र में शीर्षक भरें।

पंजीकरण पता -  shorturl.at/ghoDH

शोध प्रपत्र (पियर रिव्यू के लिए) प्रेषित करने का पता-

http://www.shodh.net/index.php?option=com_mad4joomla&jid=21&Itemid=161

विषय : वर्तमान चुनौतियों के सन्दर्भ में समाज की संवेदना और साहित्य

उपविषय :

1 . साहित्य  के संदर्भ में वैश्विक परिवर्तन की दिशाएँ।, 2 . कोविड-19 के आलोक में नयी विश्व-व्यवस्था की प्रवृत्तियाँ। 3 . सामाजिक परिवर्तन के आयाम। 4 . बाजारवादी संरचना में बदलते मानवीय संबंध। 5. कृत्रिम बुद्धिमत्ता और संवेदना  (आर्टिफिशल इंटेलिजेंस)। 6. नयी सदी के साहित्य की प्रवृत्तियाँ। 7. वर्तमान सन्दर्भ में साहित्यकार का दायित्व। 8. भावी पीढ़ी का साहित्य, समस्या एवं चुनौतियाँ। 9.  वर्तमान संदर्भ में साहित्य से अपेक्षाएँ। 10. तकनीकी आयामों के संदर्भ में संवेदनात्मक परिवर्तन।

कार्यक्रम

दिनांक 27 जुलाई, 2020

उद्घाटन सत्र

प्रात: 11:00 बजे से 1:00 बजे तक

तकनीकी सत्र -1

अपराह्न: 3:00 बजे से 5:00 बजे तक

तकनीकी सत्र-2

प्रात: 11:00 बजे से 1:00 बजे तक

समापन सत्र

अपराह्न: 4:00 बजे से 6:00 बजे तक

संपर्क सूत्र – 9415367401, 9532456681, 9868462663, 9415050808

=====

Opinion Poll
1. भारत में ऑनलाइन शिक्षा क्या पारंपरिक शिक्षा का विकल्प हो सकती है?
 
2. वर्तमान में सम्पन्न हो रहे वेबिनार के बारे आपका अनुभव क्या है?
 
3. उच्च शिक्षा में सुधार हेतु ए.पी.आई.और अन्य संबंधित विषयों के परिवर्तन में क्या जल्दबाजी उचित है?
 
4. भारत में समाज विज्ञान एवम मानविकी की शोध पत्रिकांए शोध के स्तर को बढाने में निम्न सामर्थ्य रखतीं हैं-
 
5. भारतीय विश्वविद्यालयों में मानविकी एवं सामाजिक विज्ञानं के अधिकांश शोध हैं –
 
6. क्या आप भारतीय विश्वविद्यालयो में हो रहे शोध से संतुष्ट है?